मेरा फेवरेट शब्द है “रिपब्लिक”- अर्णब गोस्वामी

126
दैनिक भास्कर समूह के एक्जिक्यूटिव डायरेक्टर भरत अग्रवाल के सवालों के जवाब
सवाल-आपका फेवरेट शब्द क्या है।
अर्नब-रिपब्लिक।
सवाल-आपका फेवरेट हीरो?
अर्नब-कोई नहीं
सवाल-आपने बैंक में कितने पैसे जमा कराए?
अर्नब-मेरे पास सिर्फ 12 हजार रुपए थे। मैं एटीएम की लाइन में खड़ा था। बेहद खुश था। देश बदल रहा है।
सवाल-आपने कॉलेज में कितने दिलों को तोड़ा?
अर्नब-ऐसा नहीं हुआ। मेरे पर कोई ध्यान नहीं देता था। मेरे साथ अर्जुन रामपाल पढ़ते थे जो मेरे से एक साल सीनियर थे। मेरे कई बैचमेट बॉलीवुड में गए हैं, जैसे इम्तियाज अली। जब ये हों तो कौन मुझे अटेंशन देगा।
सवाल-लोग कहते हैं कि आप राहुल गांधी पर बहुत हार्ड हैं और नरेंद्र मोदी पर सॉफ्ट?
अर्नब-मैं केवल सवाल पूछ सकता हूं। किसी और पर जवाब नहीं दे सकता। मुझे लगता है कि मैंने राहुल से नर्म तरीके से बिहेव किया है। मैंने वो शाम बहुत एंज्वॉय की, जब मैंने इंटरव्यू किया।
सवाल-अगर जादू की झप्पी देने का मौका मिला तो मोदी और राहुल में से किसे देंगे?
अर्नब-मैं किसी भी राजनेता को नहीं दूंगा।
सवाल-आपके घर पर डिबेट होती है तो कौन जीतता है आप या वाइफ?
अर्नब-आप खुद समझ सकते हैं। बोलने की जरूरत नहीं।
सवाल-अर्नब आपकी उम्र कितनी है?
अर्नब-मैंने राहुल के साथ शो किया तो उन्होंने मेरी उम्र पूछी थी। तब मैंने कहा 40 साल। तो वो बोले छोटे हो आप। मैं जवाब दिया मुझे 19 साल का काम का एक्सपीरियंस है।
लोगों के सवालों के भी दिए जवाब
सवाल- डिजिटल कैसे इंडियन जर्नलिज्म में चेंज लाएगा?
अर्नब-हो रहा है। और डिजिटल से जर्नलिज्म में बदलाव आ रहा है।
सवाल-आपने बोला जब तक सुना नहीं जाए, तब तक चिल्लाना चाहिए, लेकिन गांधीजी ऐसा नहीं करते थे।
अर्नब- चिल्लाने से मेरा मतलब जोर से आवाज करना नहीं है। इसका मतलब है अपनी आवाज को ऊपर तक पहुंचाना। मैं किसी और के लिए अांसरेबल नहीं हूं, मैं अपने एडिटर के लिए आंसरेबल हूं।
सवाल-इंडियन जर्नलिज्म दो भागों में बांटा है। एक नेशनलिस्ट का और दूसरा है एंटी नेशनलिस्ट का।
अर्नब- ऐसा नहीं है।
सवाल-जिस समय कोई बाेल रहा हो क्या उस समय बाकी लोगों का माइक ऑफ रहना चाहिए? क्योंकि सच बोलने वाले की आवाज दब जाती है।
अर्नब- मैं रिपब्लिक में ऐसा कर सकता हूं। लेकिन प्रॉब्लम ये है कि आप चार पार्टी के स्पीकर को बुला लो, तो वो ऐसा नहीं होने देंगे। फिर भी मैं कोशिश करूंगा।
सवाल- अपने बताया कि आपका रिपब्लिक 100% जर्नलिज्म के लिए होगा। तो क्या टाइम्स नॉउ में ऐसा नहीं था?
अर्नब-कोई भी मेरे कॅरियर पर फैसला नहीं कर सकता। यदि मैंने कुछ करने का सोचा है तो मैंने सोचा है।
सवाल-कश्मीरी पंडितों के मुद्दे पर क्या होगा?
अर्नब-मैंने कश्मीरी पंडितों के लिए काफी शो किए हैं। और मैं आगे भी आवाज उठाऊंगा।
सवाल-आप हमारे घर कब आ रहे हैं?
अर्नब-हम आपके घर में आपके ड्राॅइंगरूम में आ रहे हैं, अपने रिपब्लिक के साथ।
सवाल-आपका बेस्ट सिंगर कौन है?
अर्नब-भूपेन हजारिका।
सवाल-आपका फेवरेट सॉन्ग गाइए?
अर्नब-नहीं।
साभार – दैनिक भास्कर
SHARE